ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी कबड्डी चैम्पियनशिप 2019 सफलतापूर्वक समाप्त हुआ

रविवार को उडुपी में 2019 ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी कबड्डी चैम्पियनशिप समाप्त हुआ। चार दिवसीय आयोजन में कुल 16 टीमों ने भाग लिया। पूरे टूर्नामेंट में प्रभावी प्रदर्शन के बाद रोहतक की एम. डी. यूनिवर्सिटी ने फाइनल जीता। उडुपी के पूर्णाप्रजना कॉलेज ग्राउंड में आयोजित इस कार्यक्रम में कबड्डी के बहुत से प्रशंसकों को अपनी पसंदीदा टीमों को देखने के लिए एक बड़ी सफलता मिली।

MD University
The winning MD University team

अमृतसर की जी.एन.डी यूनिवर्सिटी उपविजेता रही जबकि तीसरे स्थान के मैच में कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी रही, मंगलौर यूनिवर्सिटी की होम टीम चौथे स्थान पर रही। टूर्नामेंट में पूरे देश से 16 टीमों ने भाग लिया, जिसमें कुछ शीर्ष खिलाड़ियों ने टूर्नामेंट में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

हमने मैंगलोर यूनिवर्सिटी में फिजिकल एजुकेशन के निदेशक डॉ. किशोर कुमार सी. के., से बात की, जो टूर्नामेंट की आयोजन समिति के सदस्यों में से एक थे। उन्होंने हमें उन कार्यक्रमों के बारे में बताते हुए कहा, "मैंगलोर यूनिवर्सिटी को क्वालीटी एजुकेशन, स्पोर्ट्स एंड कल्चर के लिए जाना जाता है। हम यूनिवर्सिटी में स्पोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए बहुत अधिक सहायता दे रहे हैं। हम यूनिवर्सि के खेल व्यक्तियों के लिए भी छात्रवृत्ति प्रदान कर रहे हैं। अगर कोई खेल स्पर्धा के कारण वे इसमें शामिल नहीं हो पाते हैं तो उनके लिए फिर से परीक्षाएं। उन्होंने यह भी कहा कि यूनिवर्सि खिलाड़ियों की अंतरराष्ट्रीय भागीदारी के लिए वित्तीय सहायता भी प्रदान कर रहा है।

डॉ. कुमार ने कहा कि सभी प्रतिभागियों को टूर्नामेंट के लिए रहने के दौरान मुफ्त भोजन और आवास प्रदान किया गया। उन्होंने टूर्नामेंट के दौरान अधिकारियों और स्वयंसेवकों के काम की बधाई और सराहना भी की।

 

 


 

ताज़ा खबरे

Surender NAda
कबड्डी अड्डा एक्सक्लूसिव: सुरेंदर नाडा बताते हैं कि वे अपना लॉकडाउन कैसे बिता रहे हैं
Sandeep Narwal. Courtesy - U Mumba
संदीप नरवाल "घर से पंगा" के लिए तैयार हैं
Kabaddi Escape
राजेंद्र राजले 31 मार्च को एस्केप स्किल के बारे में सिखा रहे हैं
Ajay THakur
कोविड ​​-19 के प्रकोप के बीच अजय ठाकुर ने लोगों से अपने घरों में रहने का आग्रह किया
Tackled
5 खिलाड़ी जो 67 वें सीनियर नेशनल कबड्डी चैंपियनशिप के प्रदर्शन के बाद पीकेएल में कुछ रुपये खो सकते हैं
Sandeep Kandola
हमारे खिलाड़ी जो सीनियर नेशनल प्रदर्शन के बाद पीकेएल में बड़ी कमाई कर सकते थे